अब अयोध्या में एक नया विवाद शुरू हो गया

अयोध्या में एक नया विवाद शुरू हो गया

Ayodhya

यह विवाद इस स्तर पर पहुंच गया है कि साधु-संत न केवल अपने विरोधियों के खिलाफ अपशब्द कह रहे हैं, बल्कि दो समूहों के बीच हिंसक संघर्ष भी कर रहे हैं।

राम जन्मभूमि न्यास के महंत नृत्य गोपालदास पर उनकी कथित अभद्र टिप्पणी के बाद उनके समर्थकों ने सन्यासी शिविर के संत परमहंसदास पर हमला किया और बड़ी संख्या में पुलिस बल के पहुंचने के बाद ही परमहंसदास को वहां से बचाया जा सका।

उसी समय, परमहंसदास को यह कहते हुए तपस्वी शिविर से निष्कासित कर दिया गया कि उनका आचरण अशोभनीय था और वह शिविर में तभी लौट पाएंगे जब वह अपना व्यवहार बदलेंगे।

लेकिन इस विवाद में ये सिर्फ दो पक्ष नहीं हैं, बल्कि तीन अलग-अलग ट्रस्टों यानी मंदिर निर्माण में पहले से चल रहे ट्रस्टों के अलावा, अयोध्या में रहने वाले अन्य ‘प्रभावशाली’ संत हैं।

दरअसल, अयोध्या विवाद अदालत में होने के बावजूद, रामलला विराजमान के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए तीन ट्रस्ट पिछले कई वर्षों से सक्रिय थे।

पहले से ही तीन ट्रस्ट

इन ट्रस्टों में सबसे पुराना श्री राम जन्मभूमि न्यास है, जिसका निर्माण विश्व हिंदू परिषद की देखरेख में वर्ष 1985 में किया गया था और यह ट्रस्ट पिछले कई वर्षों से कारसेवकपुरम में मंदिर निर्माण के लिए पत्थर की नक्काशी का काम कर रहा है।

दूसरा ट्रस्ट रामालय ट्रस्ट है, जिसका गठन बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद वर्ष 1995 में किया गया था और इसके गठन के पीछे तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव की भूमिका भी बताई जाती है।

जबकि तीसरा ट्रस्ट जानकीघाट बड़े स्थान के महंत जन्मेजय शरण के नेतृत्व में गठित श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण ट्रस्ट है।

ये तीनों ट्रस्ट अब यह कह रहे हैं कि जब मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट पहले से मौजूद है, तो सरकार को और ट्रस्ट बनाने की क्या जरूरत है। ये सभी ट्रस्ट उन पर अपने नेतृत्व में मंदिर निर्माण ट्रस्ट बनाने का दबाव बना रहे हैं।

Daikin Error Solution

BEST SERVICE FOR YOU

more read

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0
One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0Shares
0 0